You don't have javascript enabled. Please Enabled javascript for better performance.

CHANGES YOUNG WOMEN SEEK FROM THE GOVERNMENT

Start Date: 12-10-2020
End Date: 12-12-2020

International Day of the Girl is celebrated annually on October 11 on different themes since 2012, with the objective to empower and realize the importance and potential of girl ...

See details Hide details

International Day of the Girl is celebrated annually on October 11 on different themes since 2012, with the objective to empower and realize the importance and potential of girl children around the world. This year, celebrated on the theme "My voice, our equal future", we look forward to receiving opinions/suggestions from teenage girls on their needs, drawbacks, challenges, etc that they face on a day-to-day basis and the various changes they seek.
We aim to identify, assess, and address the problems of girl children because their voices are what matters for our equal future.

Contribute your suggestions and let's celebrate the girl child every day!

All Comments
#GirlChild #Child #empowerment #NeedForChange #Governance #Opinion #Feedback #Suggestions
Reset
5 Record(s) Found
139250

Arun kumar tiwari 7 months 3 days ago

"अंतराष्ट्रीय बालिका दिवस 2020"
हमारा भारत वर्ष हमेशा वीरांगना की वीरता से भरी हुई है। पर हम सब ने पिछले कुछ दशक से उनकी वीर गाथाओं को भूल कर उंन्हे अबला, कमजोर, शोषित समझने की भूल कर बैठे है जिसकी वजह से हम सब की मानसिकता भी बदल चुकी है जो कि गलत है।

132630

Gagan kaur 7 months 3 weeks ago

समाज कैसे भटक गया जिस समाज मे दैव्य शक्तियों की पूजा के साथ साथ माँ को प्रथम गुरु का दर्जा देता हो वह समाज आज के समय लड़कियों को लेकर असवेदंन व्यहवार का दोषी साबित हो रहा है पर बुराई पर अच्छाई की जीत होती है और होगी

132630

Gagan kaur 7 months 3 weeks ago

दिनों दिन शिक्षा समाज को एक नई सोच को बढ़ावा दे रही है जिस मई लड़का लडकी को सामान संमझा जाता है और आज कल तो सोसाइल मीडिया मे तो लड़की को पाप की परी कहते है वह वक़्त और था जब लड़की बोझ थी पर आज नही #पापा_की_परी #Girlchild

132630

Gagan kaur 8 months 3 days ago

आज कल के दौर मे लड़का लड़की को सामान संझजाता है पर अशिक्षित समाज आज भी पुराणी रिवाजो की दुहाई दे कर समाज को अंतर मे बॉट देते है जिस कारण लड़कियों को लडको के अपेक्षा कमजोर दिखया जाता है हर लड़की को मार्शल आर्ट की व बचाव की ट्रेनिग करवानी अनिवार्य कर देनी चाहिए